व्यंजन संधि की परिभाषा, भेद और उदाहरण

संधि मुख्य रूप से तीन प्रकार की मानी जाती है। स्वर संधि, व्यंजन संधि, विसर्ग संधि। संधि का अर्थ है जोड़ करना अर्थात दो के बीच के जोड़ को संधि कहते हैं। इस लेख में व्यंजन संधि का विस्तृत रूप से उदाहरण सहित अध्ययन करेंगे। यहां अनेकों ऐसे उदाहरण प्रस्तुत किए गए हैं जो विद्यार्थियों …

Continue reading

नेताजी का चश्मा ( पाठ का सार, प्रश्न उत्तर ) class 10

लेखक स्वयं प्रकाश जी के द्वारा नेताजी का चश्मा कहानी एक देश भक्ति से प्रेरित है। जिसमें कवि ने देश के निर्माण में सभी लोगों की भागीदारी को व्यक्त करने का प्रयत्न किया है, चाहे वह किसी भी उम्र के लोग क्यों ना हो। एक साधारण सा अपंग व्यक्ति भी देश भक्ति और राष्ट्र निर्माण …

Continue reading

हिंदी प्रश्न पत्र कक्षा बारहवीं ( Prashna patra with solution )

सीबीएसई बोर्ड द्वारा नए प्रारूप में परीक्षा लिया जा रहा है, हिंदी प्रश्न पत्र का प्रारूप नीचे दिया गया है। विगत समय में सीबीएसई ने इसी प्रकार की परीक्षा बारहवीं कक्षा के छात्रों से करवाया है। प्रश्न हिंदी विषय के पत्र से आप अपनी परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। यह आपकी परीक्षा की तैयारी …

Continue reading

काल हिंदी व्याकरण ( संपूर्ण ज्ञान ) भेद तथा उदाहरण सहित

समय को हम काल कहते हैं जिन्हें तीन वर्गों में विभाजित किया गया है – वर्तमान काल, भूतकाल, भविष्य काल। वर्तमान जिस समय हम उपस्थित हैं, भूतकाल जिस समय को हमने पीछे छोड़ दिया है, भविष्य काल आगे आने वाला समय।  इन्हीं तीन काल पर सृष्टि की गतिविधियां निर्भर करती है। प्रस्तुत लेख में हम …

Continue reading

विसर्ग संधि की परिभाषा, पहचान, उदाहरण ( सम्पूर्ण ज्ञान )

इस लेख में हम विसर्ग संधि का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे और यह किस प्रकार किया जाता है यह भी करना जानेंगे। किसी दो के बीच के मेल को संधि कहते हैं। व्याकरण के अंतर्गत तीन प्रकार की संधि मानी गई है। स्वर संधि, व्यंजन संधि और विसर्ग संधि। इन सभी के अलग-अलग गुण …

Continue reading

व्यंजना शब्द शक्ति की परिभाषा, भेद, और उदाहरण

प्रस्तुत लेख में व्यंजना शब्द शक्ति का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे और उसके सभी भेदों की जानकारी हासिल करेंगे। इस लेख को हमने विद्यार्थियों के हितों को ध्यान में रखते हुए सरल बनाने का प्रयत्न किया है। हिंदी साहित्य में शब्द शक्ति का विशेष महत्व है, किसी भी साहित्य में सब शक्तियों को प्राण …

Continue reading

शब्द शक्ति ( अभिधा, लक्षणा, व्यंजना ) का सम्पूर्ण ज्ञान

इस लेख में आप शब्द शक्ति का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे। यह लेख आपके सभी प्रकार की परीक्षाओं के लिए कारगर है। किसी शब्द का अर्थ या प्रभाव उस शब्द की शक्ति कहीं जाती है। हिंदी व्याकरण में इसका विशेष महत्व है। हिंदी व्याकरण के अंतर्गत अभिधा, लक्षणा, व्यंजना, तीन प्रकार की शब्द शक्तियां …

Continue reading

वचन की संपूर्ण जानकारी ( परिभाषा, भेद तथा उदाहरण )

यह विषय हिंदी व्याकरण का एक अंग है जिसके अंतर्गत हम संख्या के रूप में अध्ययन करते हैं, आज के लेख में हम वचन की परिभाषा उदाहरण भेद आदि को विस्तार पूर्वक अध्ययन करेंगे। साधारण अर्थों में लोग भ्रांति के कारण वचन को किसी के द्वारा कहे गए वचन, बोली समझ लेते हैं। जैसे – …

Continue reading

अयादि संधि की परिभाषा, उदाहरण सहित पूरी जानकारी

अयादि संधि स्वर संधि का भेद है , संधि का अर्थ है मेल करना। स्वर संधि के अंतर्गत दो स्वरों के मेल से नए स्वर के रूप में परिवर्तन ही स्वर संधि कहलाता है। इस लेख में आप अयादि संधि का विस्तृत रूप से अध्ययन करेंगे इन्हें किस प्रकार बनाया जाता है, इसका अभ्यास करेंगे। …

Continue reading

अनेकार्थी शब्द संग्रह ( संपूर्ण जानकारी )

हिंदी व्याकरण में अनेकार्थी शब्द का अहम योगदान होता है, यह परिस्थितियों के अनुरूप शब्दों का चयन करने की स्वतंत्रता देता है।  लेखक अपने परिस्थिति के अनुसार शब्दों का प्रयोग कर सकता है। भाव एक सा होता है किंतु शब्दों के चयन से वह प्रभावी बन जाता है। वह शब्द जिनके एक से अधिक अर्थ …

Continue reading